REWIND

18.2.13

तीन छायाचित्र XVIII



                                        शहर फिर शहर है यां जी तो बहल जाता है
                                        शहर को छोड़कर सहरा में न जा मान भी जा
-शहरयार 


छायाचित्र-1 

 छायाचित्र-2

छायाचित्र-3




courtesy : art india fair 2013

17.1.13

तीन छायाचित्र-XVII : मुख-विमुख



                                                                     छायाचित्र-1



                                                                                                                 छायाचित्र-2



                                                                                                                  छायाचित्र-3 





15.7.12

तीन छायाचित्र -XVI


चमड़े की शराफ़त  के पीछे एक जंगल है जो आदमी पर पेड़ से वार करता है।...(धूमिल)




                                                          छायाचित्र-1  
  
                                                       छायाचित्र-2 

                                                          छायाचित्र-3 


24.4.12

तीन छाया चित्र XV : मेहनत की फ़सल का रंग ...




                                                                           छायाचित्र-१

                                                                           छायाचित्र-२ 

                                                                        छायाचित्र-३ 

20.3.12

तीन छायाचित्र XIV : गौरैया तेरी याद में ...



                                                                        छायाचित्र-1



                                                                             छायाचित्र-2



                                                                          छायाचित्र-3

28.1.12

तीन छायाचित्र XII : चीड़ों के मौसम



                                                                                 I                               
                                             

 
II

  
                                                                                 III
                                         


4.7.11

तीन छाया-चित्र- VII : मैं अकेला ही चला था जानिब-ऐ-मंज़िल मग़र.....

                                                                                  छायाचित्र-१

                                                                                   छायाचित्र-२

                                                                                    छायाचित्र-3

3.7.11

तीन छाया-चित्र- VI : उड़ने से पेश्तर

                                                                                छायाचित्र-१

                                                                               छायाचित्र-२

                                                                              छायाचित्र-३


14.6.11

तीन छाया-चित्र- V : किनारे पर रुकी कश्तियाँ


छायाचित्र-1



                                                                             छायाचित्र-2


                                                                                                      छायाचित्र-3

      

7.6.11

तीन छाया-चित्र-IV : बीती विभावरी जाग री........

                                                                             छायाचित्र-1

                                                                                           छायाचित्र-2

                                                                                                   छायाचित्र-3

1.6.11

तीन छाया-चित्र-III : पत्थरों की बाज़गश्त (२)


छाया-चित्र-1

छाया-चित्र-2

                                                                      छाया-चित्र-3

तीन छाया-चित्र-II : पत्थरों की बाज़गश्त(१)

                                           छायाचित्र-1  

                                                    छायाचित्र-२

                                                    छायाचित्र-3

Type your e-mail to subscribe

Disclaimer

©All photographs appearing on this blog are property of Dileep Shakya and must not be reproduced or copied without his prior approval.
onmousedown="return false" oncontextmenu="return false" onselectstart="return false">