REWIND

3.8.11

तीन छायाचित्र-X : भीतर से खुलती खिड़कियाँ



छायाचित्र-1


छायाचित्र-2


छायाचित्र-3



4 टिप्‍पणियां:

ऋषभ Rishabha ने कहा…

''बाहर साँकल नहीं खोल तू जिसे ह्रदय पा जाए
इस मंदिर का द्वार सदा भीतर से खुलता है.'' [dinkar ji]

cmsingh ने कहा…

andhere se ujale ki aor

बेनामी ने कहा…

अंदर को खुलने वाली खिड़की सबसे पहले बाहर की रौशनी को लेके आती है आओ इस रौशनी को खुद में समेट लें

kiran singh ने कहा…

Phir usi chand se rista bana baithe,
phir usi saadgi se fareb kha baithe,
pathron se tha taalukaat hamara,
phir bhee sheeshe ka ghar bna baithe

Type your e-mail to subscribe

Disclaimer

©All photographs appearing on this blog are property of Dileep Shakya and must not be reproduced or copied without his prior approval.
onmousedown="return false" oncontextmenu="return false" onselectstart="return false">